Home > Journals
   



 

 

समकालीन भारतीय साहित्य

 

साहित्य अकादेमी की द्वैमासिक पत्रिका

 

एक पत्रिका ही नहीं साहित्यिक प्रतिश्रुति है।

मूल्य प्रति अंक 25/- रुपये

 

भारतीय भाषाओं में उपलब्ध श्रेष्‍ठ साहित्य --
कहानी, कविता, नाटक, आलेख, आत्मकथा, ललित निबंध,
साक्षात्कार, संवाद, साहित्य-विमर्ष, यात्रा-वृत्त,
संस्मरण, रिपोर्ताज, लोककथा एवं
पुस्तक समीक्षा वातायन

24 भारतीय भाषाओं की रचनाओं की हिंदी में प्रस्तुति

शताब्दी स्मरण: भगवतशरण उपाध्याय, विष्‍णु प्रभाकर,
नित्यानंद महापात्र, भवानी प्रसाद मिश्र,
कृष्‍ण लाल श्रीधराणी एवं भुवनेश्‍वर।

विषेश: ओड़िया-गुजराती विशेषांक (अंक 161)
पूर्वोत्तर भारत विशेषांक (अंक 164)

आगामी अंक (167) 
रामविलास शर्मा जन्मशती विशेषांक

 

 

 

 

सदस्यता/नवीनीकरण प्रपत्र:

 

जिनकी सदस्यता अंक समाप्त हो रही है, कृपया अपना सदस्यता/नवीनीकरण करा लें।

 

सदस्यता/ नवीनीकरण प्रपत्र:

 

कृपया मुझे समकालीन भारतीय साहित्य नियमित रूप से भेजें।

एक वर्ष/तीन वर्ष ......................... से ......................... तक बैंक ड्राफ़्ट/चैक/मनीऑर्डर संलग्न है
रु/.................................................................................
मेरी प्रति इस पते पर प्रेषित की जाए:
नाम: ..............................................................................
पता: ........................................................................................................................

................................................................................................................................
ई-मेल: ............................................................................
फ़ोन: .............................................................................

 

हस्ताक्षर

मूल्य (भारत): एक प्रति 25 रुपये
एक वर्ष 125 रुपये: तीन वर्ष 350 रुपये

चैक/बैंक ड्राफ़्ट/मनीऑर्डर ’सचिव, साहित्य अकादेमी’ के नाम से ही

निम्न पते पर भेजें: साहित्य अकादेमी, रवीन्द्र भवन, 35, फ़ीरोज़शाह मार्ग,

नई दिल्ली 110001 या

साहित्य अकादेमी, विक्रय विभाग, स्वाति,

मंदिर मार्ग, नई दिल्ली 110001

   (दिल्ली से बाहर के चेक स्वीकार्य नहीं।)

 


|| Home | About Us | Contact Us | RTI || Last Updated : 25.02.2017