मुख्य पृष्ठ > ई-समाचारपत्रिकाएँ > अकादेमी की पत्रिकाएँ
   


अकादेमी की पत्रिकाएँ



इंडियन लिटरेचर

साहित्य अकादेमी इंडियन लिटरेचर के नाम से अंग्रेज़ी में एक द्वैमासिक पत्रिका का प्रकाशन करती है। सन् 1957 में यह पत्रिका छमाही पत्रिका के रूप में प्रारंभ हुई थी और अब यह अपने प्रकाशन के 57वें वर्ष में है। अंग्रेज़ी में मूल लेखन, पुस्तक समीक्षाओं और साक्षात्कार के अतिरिक्त यह पत्रिका 24 भारतीय भाषाओं में सर्जनात्मक और समालोचनात्मक लेखन के अनुवाद प्रकाशित करती है। हाल में पत्रिका ने विशिष्ट विषयों, भाषाओं, विधाओं और आंदोलनों पर आधारित विशेषांक प्रकाशित करने शुरू किए हैं। यह देश में अंग्रेज़ी में प्रकाशित होनेवाली अपनी तरह की एकमात्र पत्रिका है और इसे भारत में वर्तमान साहित्यिक प्रवृत्तियों के प्रामाणिक प्रतिबिम्बन के साथ-साथ भारत की विगत साहित्यिक समृद्धि के मूल्यांकन का एक माध्यम माना जाता है। इसकी वर्तमान अतिथि संपादक डॉ. ए.जे. थॉमस हैं।

सदस्यता/नवीनीकरण प्रपत्र हेतु क्लिक करें

 


समकालीन भारतीय साहित्य

समकालीन भारतीय साहित्य भारत की प्रमुख साहित्यिक पत्रिकाओं में से एक है, जो भारत के राष्ट्रीय साहित्य संस्थान साहित्य अकादेमी द्वारा साल में छह बार प्रकाशित होती है। 1980 में अपनी शुरुआत से ही पत्रिका ने अपना एक विशिष्ट स्थान बनाया है और इसमें मौलिक हिंदी रचनाओं के साथ मान्यता प्राप्त 23 भारतीय भाषाओं की रचनाओं के अनुवाद प्रकाशित किए जाते हैं। पत्रिका में कहानी, कविता, नाटक, निबंध, आलोचना, बाल साहित्य, पुस्तक समीक्षा आदि विधाओं को व्यापक रूप में स्थान दिया जाता है और यह पाठकीय एवं विद्वत समाज के प्रायः सभी वर्गों के लिए सुरुचिपूर्ण है। विभिन्न भाषाओं के साहित्य पर केंद्रित पत्रिका के विशेषांक भी प्रकाशित किए जाते हैं, जिनमें अतीत, आधुनिक और उत्तर-आधुनिक साहित्य का प्रतिनिधि चयन होता है। समकालीन भारतीय साहित्य के अतिथि संपादक श्री बलराम प्रेम नारायण हैं।

सदस्यता/नवीनीकरण प्रपत्र हेतु क्लिक करें

 


संस्कृत प्रतिभा

साहित्य अकादेमी त्रैमासिक संस्कृत पत्रिका संस्कृत प्रतिभा का प्रकाशन करती है जोकि संस्कृत भाषा के समकालीन सृजनात्मक लेखन को समर्पित है। इस पत्रिका का शुभारंभ सन् 1959 में वी. राघवन के संपादकत्व में हुआ था। इस पत्रिका का मुख्य उद्देश्य उत्कृष्ट संस्कृत रचनाओं का प्रकाशन कर संस्कृत में सृजनात्मक लेखन को प्रोत्साहित करना है। यह पत्रिका स्वतंत्रयोत्तर भारत की सबसे पुरानी संस्कृत पत्रिका है जो गद्य व पद्य, दोनों में सर्जनात्मक लेखन प्रकाशित करती है। इसके वर्तमान संपादक प्रो. अभिराज राजेन्द्र मिश्र हैं।

 

सभी प्रकार की सर्जनात्मक रचनाएँ जैसेकि कविताएँ, गज़लें, कहानियाँ, एकांकी, नाटक आदि पत्रिका में प्रकाशन हेतु भेजे जा सकते हैं। साहित्य अकादेमी अन्य भारतीय भाषाओं से संस्कृत में काव्यानुवाद को प्रोत्साहित करती है। इस पत्रिका में संस्कृत शोध−पत्र प्रकाशित नहीं किए जाते हैं। प्रकाशन-सामग्री वर्ड फारमेट में लेखक/अनुवादक के संक्षिप्त परिचय के साथ ई मेल द्वारा ds.pub1@sahitya-akademi.gov.in पर भेजी जा सकती है। कविता या गद्य के संस्कृत अनुवाद के साथ संस्कृत प्रतिभा में अनुवाद प्रकाशन हेतु मूल लेखक का अनुमति पत्र संलग्न करना अनिवार्य है।

 

प्रकाशन सामग्री मौलिक एवं अप्रकाशित होनी चाहिए।

 

रचनाएँ निम्न पते पर भेजी जा सकती हैः

 

संपादक,
संस्कृत प्रतिभा,
साहित्य अकादेमी,
रवींद्र भवन,
35 फीरोज़शाह रोड,

नई दिल्ली - 110001

 

मूल्यः

 

एक प्रति 40 रुपये 15 अमेरिकी डाॅलर (हवाई डाक)
एक वर्ष 150 रुपये 50 अमेरिकी डाॅलर (हवाई डाक)
तीन वर्ष 400 रुपये 130 अमेरिकी डाॅलर (हवाई डाक)

 

सदस्यता/नवीनीकरण प्रपत्र हेतु क्लिक करें

 

 

कृपया संस्कृत प्रतिभा के लिए शुल्क डी.डी./मनीआर्डर या फिर ‘सचिव, साहित्य अकादेमी’ के नाम से इसी राशि के चैक द्वारा निम्न पते पर भेजा जा सकता हैः

 

बिक्री कार्यालय
साहित्य अकादेमी,
स्वाति
मंदिर मार्ग
नई दिल्ली - 110001

 

शुल्क राशि के साथ कृपया अपना नाम, पता व अंक (जनवरी-मार्च, अप्रैल-जून, जुलाई-सितंबर, अक्तूबर-दिसंबर) और किस वर्ष से आप अपना शुल्क आरंभ करना चाहते हैं, आदि विवरण अवश्य भेजें।

बिक्री एवं शुल्क संबंधी अन्य जानकारी हेतु कृपया ds.sales@sahitya-akademi.gov.in को लिखें।


आलोक

यह साहित्‍य अकादेमी की राजभाषा गृहपत्रिका है। यह पत्रिका सन् 2002 से प्रकाशित हो रही है, प्रारंभ में यह वार्षिक रूप से प्रकाशित की जाती थी, किंतु सन् 2007 से यह पत्रिका अर्द्धवार्षिक रूप से प्रकाशित की जा रही है। इस पत्रिका में अकादेमी स्‍टाफ़ के सदस्‍यों तथा अकादेमी के सेवानिवृत्‍त कर्मियों की मूल हिंदी में लिखित या दूसरी भाषाओं से उनके द्वारा हिंदी में अनूदित रचनाएँ, पेंटिंग/रेखांकन आदि प्रकाशित किए जाते हैं। इस पत्रिका के प्रकाशन का मुख्‍य उद्देश्‍य हिंदी को अधिकाधिक बढ़ावा देना है। इसके संपादक श्री ब्रजेन्‍द्र त्रिपाठी हैं।