अनुवाद केन्‍द्र


साहित्य अकादेमी ने बेंगलूरु, शांतिनिकेतन, नई दिल्ली और अहमदाबाद में चार अनुवाद केन्द्र स्थापित किए हैं। इन केंद्रों का कार्य अंग्रेज़ी एवं अन्‍य भाषाओं में अनूदित पुस्‍तकों की विशेष श्रृंखला प्रकाशित करना है। हमने बेंगळूरु केंद्र से पूर्व-आधुनिक कालजयी कृतियों की श्रृंखला का प्रकाशन शुरू किया है। केंद्रों द्वारा 'बीसवीं सदी की सौ कालजयी कृतियाँ' योजना पर अंग्रेज़ी अनुवाद के लिए नेशनल बुक ट्रस्‍ट के साथ कार्य भी किया जा रहा है।


वर्ष 1996 से गलुरु स्थित अनुवाद केन्द्र ने निम्नांकित शीर्षकों के अंतर्गत 17 और अनुवाद प्रकाशित किए हैं :


प्राच्य
  • अदु हावे (कन्नड)-2001
  • कलापूर्णोदय (कन्नड)-2001
  • वचन सोपानम् (मलयाळम्)-2001
  • वेट्टा वेली वार्तागळ (तमिऴ)-2001
  • वड्डराधने (तेलुगु)-2001
  • वचनाळु (तेलुगु)-2001
  • वीर शिवा वचनामृत (मराठी-2002)
  • वड्डराधना (हिन्दी)-2002

    आधुनिक गौरवग्रंथ
  • याकृत (कन्नड)-2001
  • काल्लीरळ (तमिऴ)-2001
  • बीवेयर द काउज़ आर कमिंग (अंग्रेजी)-2001
  • चाफा (मराठी)-2001
  • कराल (मलयाळम्)-2002
  • रिटर्न टू अर्थ (अंग्रेजी)-2002
  • दक्षिण कारूपिण्डे गाथा (मलयाळम्)-2003
  • जीवनानंद दासरा कवितेगलु (कन्नड)-2003

आयोजित किए गए कार्यक्रम
  • 17 अगस्त 2002 : अकादेमी के अनुवाद केन्द्र ने तेलुगु अकादेमी, हैदराबाद और सेण्ट्रल यूनिवर्सिटी, हैदराबाद के एक प्रतिबद्ध विद्वत्मंडली के सहयोग से 'ट्रांसलेशन मैटर्स' नामक मंच की शुरुआत की गई जिसके द्वारा अनुवाद से जु़डे मुद्दों पर विमर्श किया जाएगा।
  • 29 अगस्त 2002 : अनुवाद केन्द्र ने स्वीडिश दूतावास और साहित्य अकादेमी के आपसी सहयोग द्वारा 'ए स्वीडिश इवनिंग इन बेंगलूरु' नामक कार्यक्रम के आयोजन के साथ एक स्वीडिश उपन्यास 'द वे ऑफ़ ए सर्पेण्ट' के प्रकाशन में भी सहयोग किया।
  • 29 अक्तूबर 2002 : 'ट्रांसलेशन मैटर्स' : हैदराबाद स्थित इस नए मंच ने अकादेमी के सहयोग से तेलुगु अकादेमी, हैदराबाद में अनुवाद पर एक साहित्यिक सम्मिलन कार्यक्रम के अंतर्गत अमेरिका की सुश्री पाउला रिचमैन को आमंत्रित किया।
  • पुस्तक विमोचन : 28 नंवबर 2002 को कारंत की जन्मशती के अवसर पर आयोजित राष्ट्रीय संगोष्ठी में शिवराम कारंत की कन्नड कृति के अंग्रेजी अनुवाद रिटर्न टू अर्थ का विमोचन किया गया।
  • 28 फ़रवरी 2003 को बंगलूरु में अनुवाद केन्द्र के बंगाली एसोसिएशन, बंगलूरु के सहयोग से 'एन इवनिंग विद द पोएट्री ऑफ़ जीवनानंद दास' कार्यक्रम का आयोजन किया गया।
  • अनुवाद केन्द्र ने सी. आई. आई. एल., मैसूर और उस्मानिया विश्वविद्यालय के सहयोग से अपने स्थानीय मंच 'ट्रांसलेशन मैटर्स' के सहप्रयोजन से 20 से 22 मार्च 2002 तक हैदराबाद में 'अनुवाद और अधिकारिता' विषयक त्रिदिवसीय संगोष्ठी का आयोजन किया।
  • 'अनुवाद और अधिकारिता' विषयक संगोष्ठी के दौरान अनुवाद केन्द्र, बंगलूरु ने उस्मानिया विश्वविद्यालय हैदराबाद में त्रि-दिवसीय पुस्तक प्रदर्शनी का आयोजन किया।